Press Release

Cabinet approves continuation of ICDS sub-schemes till November 2018 

NNWN/ New Delhi, 2017-11-16

The Cabinet Committee on Economic Affairs has given its approval for continuation of Integrated Child Development Services ( ICDS) sub schemes till November 30, 2018 from April 1, 2017 with an outlay of over Rs 41,000 crores. These sub schemes are Anganwadi Services, Scheme for Adolescent Girls, Child Protection Services and National Crèche Scheme. The Cabinet has also approved implementation of Scheme for Adolescent Girls for out of school girls in the age group of 11-14 years, its phased expansion and phasing out of the on–going Kishori Shakti Yojana for out of school girls in the age group of 11-14 years.

Hindi Section

NNWN / New Delhi,2017-06-28

कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग ने स्वच्छता पखवाड़ा के अंतर्गत आज यहां राममनोहर लोहिया अस्पताल के परिसर में स्वच्छता अभियान में हिस्सा लिया। विभाग के उप सचिव श्री सुरेश कुमार और अपर सचिव श्री राजेश्वर लाल के नेतृत्व में करीब 50 कर्मियों ने अस्पताल के प्रशासनिक खंड से जुड़े पार्क में स्वच्छता अभियान में हिस्सा लिया।

स्वच्छता पखवाड़ा के अंतर्गत डीओपीटी विभिन्न गतिविधियां चला रहा है। पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय द्वारा स्वच्छता पखवाड़ा 16 जून से 30 जून 2017 तक चलाया जा रहा है।

स्वच्छता अभियान के दौरान कचरे के 9 पैकेट एकत्रित किये गये इनमें अधिकतर पेड़ों के पत्ते और प्राकृतिक तरीके से सड़ने वाला सामान था। इसके अलावा कुछ मिला जुला कचरा भी एकत्र किया गया। कचरे के सभी पैकेट अस्पताल प्रशासन के प्रभारी को खाद बनाने सहित उसके उचित इस्तेमाल/निपटारे के लिए सौंप दिये गये।

 

NNWN / Shimla, 2017-05-12
 
केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री जे .पी. नड्डा ने आज मंडी में देश के सार्वभौमिक टीकाकरण कार्यक्रम (यूआईपी) में न्‍यूमोकोकल कंजुगेट टीका (पीसीवी) लॉंच करने की घोषणा के अवसर पर कहा कि ‘टीका से बचाव वाली बीमारियों से देश में किसी भी बच्‍चे की मृत्‍यु नहीं होनी चाहिए‘ यही हमारी सरकार का लक्ष्‍य एवं प्रतिबद्धता है। उन्‍होंने कहा कि हम शिशु मृत्‍यु दर को कम करने एवं अपने शिशुओं को स्‍वस्‍थ भविष्‍य उपलब्‍ध कराने के प्रति‍ वचनबद्ध हैं। भारत के टीकाकरण कार्यक्रम में इसे एक ऐतिहासिक क्षण तथा एक उदाहरण देने योग्‍य कदम बताते हुए केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा कि सरकार बच्‍चों में मृत्‍यु दर एवं रुग्णता दर को कम करने के प्रति प्रतिबद्ध है। उन्‍होंने कहा कि रुटीन टीकाकरण को मजबूत बनाना भारत के बच्‍चों में एक अनिवार्य निवेश है तथा यह देश का स्‍वस्‍थ भविष्‍य सुनिश्चित करेगा।
 
पीसीवी बच्‍चों को निमोनिया एवं मेनिनजाइटिस जैसी न्‍यूमोकोकल बीमारियों के प्रचंड रूपों से सुरक्षा प्रदान करती है। वर्तमान में यह टीका पहले चरण में हिमाचल प्रदेश एवं बिहार एवं उत्‍तर प्रदेश के कुछ हिस्‍सों के लगभग 21 लाख बच्‍चों को दिया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  की टीका से बचाव वाली बीमारियों से बच्‍चों की जान बचाने की प्रतिबद्धता को दुहराते हुए नड्डा ने कहा कि सरकार ने कुल टीकाकरण की दिशा में उल्‍लेखनीय कदम उठाए हैं।  मिशन इंद्रधनुष के तहत अभी तक 2.6 करोड़ से अधिक लाभार्थियों का टीकाकरण कराया जा चुका है।
 
स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने यह भी कहा कि ये सभी टीके निजी क्षेत्र में न केवल भारत में बल्कि दुनिया भर में कई वर्षों से उपलब्‍ध थे। श्री नड्डा ने कहा कि ‘निजी क्षेत्र में ये टीके केवल समृद्ध वर्ग के लिए ही सुलभ थे, यूआईपी के तहत उन्‍हें उपलब्‍ध कराने के जरिये सरकार  निर्धन एवं वंचित वर्गों के लिए भी समान रूप से उनकी उपलब्‍धता सुनिश्चित कर रही है।’ 

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

NNWN / 2017-08-28

The International body has reacted on the mensuration issue stating that the simple biological fact of menstruation shouldn’t be a barrier to gender equality or stymie women’s and girls’ realization of their human rights,

This is a strong statement from Human Rights Watch and WASH United. The organizations released a guide for aid and development groups and others who work with women and girls to address human rights in menstrual hygiene in their programming. Most women and girls will menstruate every month between menarche and menopause, yet this normal bodily function is still met with silence, taboos, and stigma. Women and girls the world over face numerous challenges in managing their menstruation, which should be a straightforward issue of privacy and health. Pads and other supplies may be unavailable or unaffordable, they may lack access to safe toilet facilities with clean water where they can clean themselves in privacy, and they face discriminatory cultural norms or practices that make it difficult to maintain good menstrual hygiene. Together, these challenges may result in women and girls being denied basic human rights.

“People who make policy and run programs – and even human rights advocates – often don’t fully understand the impact a woman’s monthly period may have on her ability to go about her life if she doesn’t have what she needs to manage it,” said Amanda Klasing, senior women’s rights researcher at Human Rights Watch. “By breaking the silence around menstruation, women can identify barriers they face in managing it.” The practitioner’s guide explains how women’s and girls’ ability to manage their menstruation hygienically, and with normalcy and dignity, enables women and girls to enjoy certain human rights. For example, it addresses the rights to education, health, and water and sanitation, and how they relate to menstrual hygiene management.

Daksh Add-27-8-14.png